Home » Biography » लाल बहादुर शास्त्री की जीवनी | Lal Bahadur Shastri Biography in Hindi

लाल बहादुर शास्त्री की जीवनी | Lal Bahadur Shastri Biography in Hindi

लाल बहादुर शास्त्री की जीवनी | Lal Bahadur Shastri Biography in Hindi | Lal Bahadur Shastri in Hindi

जन्म: 2 अक्टूबर, 1904
निधन: 10 जनवरी, 1966

(Lal Bahadur Shastri Biography in Hindi) लाल बहादुर शास्त्री जी स्वतंत्र भारत के दूसरे प्रधानमंत्री थे। वह महान साहस और इच्छाशक्ति के व्यक्ति थे। 1965 के युद्ध दौरान उन्होंने देश का बहुत अच्छे से नेतृत्व किया था। लाल बहादुर शास्त्री जी ने युद्ध के दौरान देश को एकजुट करने के लिए जय जवान जय किसान का नारा दिया था। आजादी से पहले भी इन्होने स्वतंत्रता आंदोलन में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

लाल बहादुर शास्त्री जी का जन्म 2 अक्टूबर 1904 को उत्तर प्रदेश के मुग़लसराय में हुआ था। उनके पिता का नाम शारदा प्रसाद और माँ का नाम रामदुलारी देवी था। लाल बहादुर शास्त्री जी का उपनाम श्रीवास्तव था पर उन्होंने बाद में अपना बदल लिया था ताकि उनके नाम से जाति अंकित नहीं हो। शास्त्री जी के पिता एक स्कूल में अध्यापक थे। उनके पिता जी गरीब होने के बाद भी अपनी ईमानदारी और शराफत के लिए जाने जाते थे। लाल बहादुर शास्त्री जी सिर्फ एक वर्ष के थे तभी उनके पिता का देहांत हो गया था। उसके बाद उनकी माता ने लाल बहादुर शास्त्री और उनकी दो बहनों का पालन पोषण अपने पिता के घर पर किया था।
1927 में लाल बहादुर शास्त्री का विवाह ललिता देवी के साथ हुआ। विवाह संस्कार काफी साधारण तरीके से हुआ।

Lal Bahadur Shastri Biography in Hindi | Lal Bahadur Shastri in Hindi

शास्त्री जी जब मात्र छ: वर्ष के थे तब एक बहुत ही दिलचस्प घटना घटी थी। एक दिन जब वो स्कूल से घर आ रहे थे तो वो और उनके दोस्त एक आम के बगीचे में चले गए और आम तोड़ने के लिए उनका दोस्त पेड़ पर चढ़ गया। जबकि शास्त्री जी निचे ही खड़े थे। इसी बीच बगीचे का माली आ गया और उनको डाटना शुरू कर दिया। शास्त्री जी ने माली से निवेदन की उसको छोड़ दे क्युकी वो अनाथ है, बालक पर दया करते हुए माली ने उनको छोड़ दिया और कहा – तुम एक अनाथ हो इसलिए यह सबसे जरुरी है कि तुम बेहतर आचरण सीखो” इन शब्दों ने उन पर एक गहरी छाप छोड़ी। इसके बाद उन्होंने भविष्य में बेहतर व्यवहार करने की कसम खाई।

राजनैतिक जीवन – Lal Bahadur Shastri in Hindi

1921 में जब महात्मा गांधी ने ब्रिटिश सरकार के खिलाफ असहयोग आंदोलन की शुरुआत की। उस आंदोलन का भाग बनने के लिए उन्होंने अपना स्कूल छोड़ दिया था। लेकिन उनकी माता और रिश्तेदारों ने ऐसा करने मना किया था। शास्त्री जी को आंदोलन के दौरान गिरफ्तार भी किया गया पर कम उम्र के कारण उन्हें छोड़ दिया गया। जेल से छूटने के बाद लाल बहादुर ने काशी विद्यापीठ में चार साल तक दर्शनशास्त्र की पढाई की और 1926 में “शास्त्री” की उपाधि प्राप्त कर ली।

Lal Bahadur Shastri Biography in Hindi | Lal Bahadur Shastri in Hindi

1930 में गांधी जी ने सविनय अवज्ञा आंदोलन का आह्वान किया और लाल बहादुर भी इस आंदोलन से जुड़े। उनको गिरफ्तार करके ढाई साल के लिए जेल भेज दिया गया। 8 अगस्त 1942 को गांधीजी ने भारत छोड़ो आंदोलन का आह्वान किया। उन्होंने इस आंदोलन में सक्रिय रूप से भाग लिया। लाल बहादुर शास्त्री की प्रशासनिक क्षमता और संगठन कौशल इस दौरान सामने आया। गोविन्द वल्लभ पंत उत्तर प्रदेश के मुख्य मंत्री बने तो उन्होंने लाल बहादुर को संसदीय सचिव के रूप में नियुक्त किया। भारत के गणराज्य बनने के बाद कांग्रेस पार्टी ने भारी बहुमत के साथ चुनाव जीता। 1952 में जवाहर लाल नेहरू ने लाल बहादुर शास्त्री को केंद्रीय मंत्रिमंडल में रेलवे और परिवहन मंत्री के रूप में नियुक्त किया। 1964 में जवाहरलाल नेहरू के मरणोपरांत सर्वसम्मति से लाल बहादुर शास्त्री को भारत का प्रधान मंत्री चुना गया। यह समय काफी मुश्किल था और देश बड़ी चुनौतियों का सामना कर रहा था।

1965 में पाकिस्तान ने भारत पर हमला कर दिया। इस समय शास्त्री जी ने अपनी सूझबूझ से देश का नेतृत्व किया था। पाकिस्तान को हर का सामना करना पड़ा था। भारत और पाकिस्तान ने रूसी मध्यस्थता के तहत संयुक्त घोषणापत्र पर हस्ताक्षर किए। 10 जनवरी 1966 को संयुक्त घोषणा पत्र हस्ताक्षरित हुआ था। उसी रात लाल बहादुर शास्त्री जी दिल का दौरा पड़ा जिसकी वजह से उनका निधन हो गया। 11 जनवरी 1966 को हम सभी ने एक ईमानदार और बहुत ही अच्छे प्रधानमंत्री को खो दिया। लेकिन वो आज भी हम सभी के दिलो में बस्ते है।

Read Also:

DekhChote

हिंदी जीके, करंट अफेयर्स, ट्रिक्स की लेटेस्ट Updates Emails पर पाने के लिए सब्सक्राइब करे

Follow DekhChote

dekhchote study dekhchote study

dekhchote study

dekhchote study

error: Content is protected !!